Sunday, February 17, 2019

डियर जिंदगी: बच्‍चों के बिना घर!

डियर जिंदगी: बच्‍चों के बिना घर!
बच्‍चों के पढ़ाई के लिए बाहर जाते ही माता-पिता में खालीपन देखा जा रहा है. जैसे किसी ने उनकी मुस्‍कान गिरवी रख दी हो कि खुश रहना मना है.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2SCMkiK

Saturday, February 16, 2019

प्रेम और प्रेम दिवस!

प्रेम और प्रेम दिवस!
आज के लोग कहते पाए जाते हैं कि तबके प्रेमियों में साहस नहीं होता था. बेशक Kiss और Hug का साहस नहीं होता था क्योंकि प्रेमिका के लिए दिल में सम्मान होता था.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2BB4six

डियर जिंदगी: रास्‍ता बुनना!

डियर जिंदगी: रास्‍ता बुनना!
जिंदगी के प्रति थोड़ी कंजूसी भी जरूरी है, जिससे इसे दूसरों से नफरत, असहमति के नाम पर खर्च होने से बचाया जा सके!

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2BuMvlB

आखिर किसने छीन लिया है घरेलू क्रिकेट का सुख-चैन

आखिर किसने छीन लिया है घरेलू क्रिकेट का सुख-चैन
जिस देश का घरेलू क्रिकेट लोकप्रियता के मामले में बेहाल हो रहा हो, उस देश का क्रिकेट आगे जाकर नीचे जरूर गिरेगा.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2E7eVDP

डियर जिंदगी: ‘ कड़वे ’ की याद!

डियर जिंदगी: ‘ कड़वे ’ की याद!
हम अपनी बहुत ‘छोटी’ दुनिया के अनुभव को जब बहुत बड़ी धरती पर लागू करने की कोशिश करते हैं, तो इससे हमारा दृष्टिकोण बहुत बाधित होता जाता है.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2TLWD0p

डियर जिंदगी: अरे! कितने बदल गए...

डियर जिंदगी: अरे! कितने बदल गए...
बच्‍चे बहुत तेज़ी से सीखते, समझते और नई चीज़ के लिए तैयार होते हैं. विडंबना यह है कि बड़े होते ही हम अपना ही सबसे अनमोल गुण बिसरा देते हैं.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2I8HgxI

डियर जिंदगी: सबकुछ ठीक होना!

डियर जिंदगी: सबकुछ ठीक होना!
संदेह, प्रेम की कमी से हम रिक्‍त, रूखे और कठोर होते जाते हैं. धीरे-धीरे यह हमारा स्‍थाई बनता जाता है. चित्‍त में जो भाव ठहर जाए, वह आसानी से नहीं बदलता.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2te8glb

Saturday, February 9, 2019

बजट की व्याख्या अर्थशास्त्रियों को नहीं, नेताओं को करनी है

बजट की व्याख्या अर्थशास्त्रियों को नहीं, नेताओं को करनी है
बजट अभी पेश हुआ ही है. विद्वान लोग धीरे-धीरे इसकी खूबियां और खामियां रेशा-रेशा कर सामने लाएंगे. इन जानकारों में से ज्यादातर ऐसे होंगे जिन्होंने निष्कर्ष पहले से निकाल रखे होंगे, भले ही बजट कैसा भी हो.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2S5E0Yn

Friday, February 1, 2019

डियर जिंदगी: फैसला कौन करेगा!

डियर जिंदगी: फैसला कौन करेगा!
इस बात को गंभीरता से समझने की जरूरत है कि जीवन किसका है. इस पर किसका अधिकार है! सपने किसके हैं, दायित्व किसका है और अंततः जिम्मेदारी किसकी!

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2G1AYhq

पद्मश्री बाबूलाल दाहिया : देसी अन्नों का देहाती विश्वामित्र

पद्मश्री बाबूलाल दाहिया : देसी अन्नों का देहाती विश्वामित्र
दाहिया जी को यह सम्मान पारंपरिक बीजों के संरक्षण और उनकी खेती के विस्तार को प्रोत्साहन देने के लिए मिला है. वे पिछले पंद्रह सालों से देसी बीजों की तलाश में पूरा देश घूम चुके हैं. बाबूलाल एक साथ दस काम ओढ़े हुए चलते हैं.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2SjjB1l

Thursday, January 31, 2019

डियर जिंदगी: रेगिस्तान होने से बचना!

डियर जिंदगी: रेगिस्तान होने से बचना!
शहर में हमारे घर आंगन एक दूसरे से इतने अलग और बंटे हुए हैं कि कब वहां सुख और दुख 'हमारे' ना होकर 'मेरे और तुम्हारे' में बदल जाते हैं, हम नहीं समझ पाते.  

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2CZ4jF9

Wednesday, January 30, 2019

गांधी पुण्यतिथि: गांधी को समझने का काल

गांधी पुण्यतिथि: गांधी को समझने का काल
अमेरिकी राज्य सचिव, (विदेश मंत्री) ने कहा, 'महात्मा गांधी सारी मानव जाति की अंतरात्मा के प्रवक्ता थे.'

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2S08qLN

डियर जिंदगी: ‘ऐसा होता आया है’ से मुक्ति!

डियर जिंदगी: ‘ऐसा होता आया है’ से मुक्ति!
जिंदगी में कुछ भी हासिल करने का संबंध केवल योग्‍यता से नहीं. उस योग्‍यता को साहस, डटे रहने और हिम्‍मत नहीं हारने का साथ सबसे जरूरी है!

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2UpiudR

खट्टे फल जिन्होंने इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड का भाग्य बदल दिया!

खट्टे फल जिन्होंने इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड का भाग्य बदल दिया!
उस ज़माने में सुदूर तटों के सफर पर निकलने वाले जहाजों के चालक दल के आधे से ज्यादा सदस्य सफर के दौरान मर जाते थे. इन मौतों की वजह एक रहस्यमय बीमारी थी. 

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2B9n4FM

Tuesday, January 29, 2019

डियर जिंदगी: कुछ धीमा हो जाए...

डियर जिंदगी: कुछ धीमा हो जाए...
धीमा होना कोई खराब चीज़ नहीं. न चलना ठीक नहीं. लेकिन धीमे होने में कोई बुराई नहीं. सबसे जरूरी केवल चलते जाना है!

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2MEXL2U

किस्सा-ए-कंज्यूमर : ATM फेल और बैंकों का 'खेल'

किस्सा-ए-कंज्यूमर : ATM फेल और बैंकों का 'खेल'
बैंकों के 'कंडीशंस अप्लाई' की तिकड़म में कंज्यूमर ऐसा उलझता है कि अपना ही कैश वापस लेने के लिए केस लड़ना पड़ता है. कुछ जरूरी बातों की जानकारी हो तो इस लड़ाई में आपकी जीत होती है लेकिन अगर चूक हो गईं तो पैसे गए समझो.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2RTCfgT

Monday, January 28, 2019

डियर जिंदगी: मन को मत जलाइए, कह दीजिए !

डियर जिंदगी: मन को मत जलाइए, कह दीजिए !
आपको जिससे भी परेशानी है , उससे बात कीजिए. अपनी बात सही तरीके से, लेकिन शांति, सौम्यता से रखिए.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2FScsiC

पोस्टमास्टर से ‘खेती के मास्टर’ से पद्मश्री दाहिया

पोस्टमास्टर से ‘खेती के मास्टर’ से पद्मश्री दाहिया
सरकारी पोस्टमास्टर की नौकरी से रिटायर होने के बाद उन्होंंने अपने उस काम को संवारा, जिसके लिए उन्हें देश के प्रतिष्ठित अवार्ड के लिए चुना गया है. यह केवल दाहिया का नहीं देश के लाखों लोगों का सम्मान है.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2HAVw25

Sunday, January 27, 2019

कृष्णा सोबती: स्त्री की आजादी और साहित्यकार के संघर्ष की लंबी कहानी

कृष्णा सोबती: स्त्री की आजादी और साहित्यकार के संघर्ष की लंबी कहानी
रेणु की तरह कृष्णा जी अपने उस जमाने की उपज हैं जिसकी मिट्टी और पानी से उनका जीवन सजा-संवरा है. यह कृतज्ञता इतनी गहरी है कि वे बार-बार उसका कर्ज चुकाने को उद्यत जैसी रहती हैं, ठीक रेणु की तरह.  

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2G2WTE4

Saturday, January 26, 2019

हमारे लिए देश सर्वोपरि है...

हमारे लिए देश सर्वोपरि है...
कहते हैं राजनीति का आईना बड़ा धुंधला होता है. वैसे तो राजनीति हमेशा से ही समझ से परे की बात रही है, लेकिन आज तो राजनीति की परिभाषा ही बदल गई है.

from Zee News Hindi: Blogs http://bit.ly/2RZpnVV